रूस और यूक्रेन के बीच वार्ता शुरू, जेलेंस्‍की के सलाहकार ने दी जानकारी

रूस और यूक्रेन के बीच वार्ता शुरू, जेलेंस्‍की के सलाहकार ने दी जानकारी

नई दिल्‍ली। रूस से जारी तनाव और युद्ध के बीच दोनों देशों के प्रतिनिधिमंडल के बीच शांति वार्ता को लेकर बेलारूस के मिन्‍स्‍क शहर में सभी औपचारिक तैयारियां पूरी कर ली गई हैं। ये बैठक भारतीय समयानुसार दोपहर तीन बजे के बाद कभी भी हो सकती है। इस बैठक पर सभी देशों की निगाह लगी हुई है। समाचार एजेंसी तास के मुताबिक रूस  का नेतृत्‍व राष्ट्रपति व्‍लादिमीर पुतिन के सहयोगी व्लादिमीर मेडिंस्की कर रहे हैं। उन्‍होंने इससे पहले बताया था कि बेलारूस के गोमेल क्षेत्र में बातचीत के लिए यूक्रेन से एक समझौता किया गया था। रूसी प्रतिनिधिमंडल पहले ही वहां पहुंच चुका है। रायटर्स ने यूक्रेन के राष्‍ट्रपति कार्यालय के हवाले से बताया है कि यूक्रेन का एक प्रतिनिधिमंडल रूसी प्रतिनिधियों के साथ बातचीत के लिए बेलारूसी सीमा पर पहुंचा है। 

Live Updates: 

– नाटो के प्रमुख जेन्स स्टोल्टेनबर्ग ने आज एक ट्वीट में कहा कि नाटो के सहयोगी यूक्रेन को हवाई रक्षा मिसाइल और टैंक रोधी हथियार मुहैया करा रहे हैं।

– यूक्रेन और रूस के उच्च-स्तरीय प्रतिनिधिमंडलों के बीच बेलारूस की सीमा पर बातचीत शुरू हो गई है। यूक्रेनी राष्ट्रपति के सलाहकार मायखाइलो पोडोलीक ने सोमवार को समाचार एजेंसी रायटर को बताया। इससे पहले यूक्रेन के राष्ट्रपति कार्यालय ने कहा कि वार्ता के लिए यूक्रेन का लक्ष्य तत्काल युद्धविराम और यूक्रेन से रूसी सेना की वापसी है।

– तास एजेंसी के मुताबिक रूसी प्रतिनिधिमंडल के प्रमुख व्लादिमीर मेडिंस्की ने कहा है कि यूक्रेन के प्रतिनिधिमंडल को कुछ तकनीकी समस्‍या की वजह से देरी हुई है। उनके मुताबिक दोनों देशों के बीच बातचीत मास्‍को के स्‍थानीय समय मुताबिक लगभग 12:00 बजे शुरू होनी चाहिए। उन्‍होंने बताया है कि यूक्रेन का दल एक घंटा देरी से यहां पहुंच जाएगा। मेडिंस्‍की के मुताबिक वो पूरी रात यूक्रेन के दल का इंतजार रहे थे। उनके आने का समय बार-बार बदलता रहा। 

भारत में तैनात यूक्रेन के राजदूत डॉ इगोर पोलिखा ने कहा है कि इस लड़ाई में बहुत सारे नागरिक हताहत हो रहे हैं। यूक्रेन सरकार के अनुसार रूसी शांति-संघर्ष अभियान के परिणामस्वरूप पहले से ही बम विस्फोटों, गोलाबारी आदि से 16 बच्चे मारे जा चुके हैं। उनके मुताबिक शरणार्थियों की संख्या 4 लाख को पार कर गई है। यदि जंग नहीं रुकी तो यह संख्या 70 लाख तक पहुंच सकती है। यूक्रेन छोड़ने वालों की बार्डर पर लंबी लाइन लगी है।  

रायटर्स के मुताबिक यूक्रेन के राष्ट्रपति कार्यालय का कहना है कि रूस के साथ बातचीत का उसका मुख्य लक्ष्य तत्काल युद्धविराम और रूसी सैनिकों की वापसी है। 

भारतीयों को सुरक्षित वापस लाने के लिए इंडिगो A321 विमान के जरिए दो उड़ानें संचालित कर रहा है। ये उड़ानें दिल्ली से बुखारेस्ट, रोमानिया और बुडापेस्ट, हंगरी के लिए इस्तांबुल के रास्ते संचालित की जा रही हैं। इंडिगो ने कहा है कि हम ऐसी और निकासी उड़ानों के लिए अपना समर्थन देने के लिए सरकार के साथ निकट संपर्क में हैं।

प्रधान मंत्री के निर्देश पर, कैबिनेट सचिव ने राज्यों के मुख्य सचिवों से बात की और उन्हें यूक्रेन से छात्रों को वापस लाने के भारत सरकार के प्रयासों के बारे में जानकारी दी है। उन्‍होंने जिला कलेक्टरों से कहा है कि वो ऐसे छात्रों के परिवार के सदस्यों से संपर्क करें 

editor

editor

Leave a Reply

Your email address will not be published.